RJD की बैठक पर सुशील मोदी का हमला, कहा- हार की वजह जानने के लिए अपने गिरेबां झांके राजद

पटना: बिहार विधानसभा चुनाव में हार के बाद आज आरजेडी ने पार्टी के सभी जीते और हारे हुए विधायकों की मौजूदगी में समीक्षा बैठक की. हालांकि, एनडीए के नेताओं ने आरजेडी की समीक्षा बैठक पर हमला बोला है और पार्टी को कई राय दिए हैं. राज्यसभा सांसद सुशील मोदी ने ट्वीट कर कहा कि राजद को चुनावी हार का ठीकरा सहयोगी दल पर फोड़ने की बजाय अपने गिरेबां में झांक कर देखना चाहिए.

सुशील मोदी ने ट्वीट कर लिखा कि राजद में अगर किसी को लगता है कि राहुल गांधी नॉन सीरियस नेता हैं और चुनाव प्रचार या प्राकृतिक आपदा के समय उनका उपस्थित होना केवल राजनीतिक पर्यटन होता है, तो इन्हें अपने नेता तेजस्वी प्रसाद यादव को भी इन्हीं मानकों पर क्यों नहीं परखना चाहिए? तेजस्वी यादव भी चमकी बुखार, सीमांचल में बाढ़ और लाकडाउन के समय बिहार से गायब रहे, लेकिन चुनाव के समय सक्रिय हो गये.

उन्होंने कहा कि तेजस्वी भी राहुल गांधी की तरह वंशवादी राजनीति के कारण सीनियर नेताओं को किनारे कर पार्टी पर थोपे गए हैं और विधानसभा सत्र के दौरान लंबी छुट्टी पर जाकर अपना नॉन सीरियस रवैया जाहिर करते हैं.

राजद को समीक्षा बैठक में सहयोगी दलों पर हार का ठीकरा के बजाय अपने गिरेबान में झांकना चाहिए.

सुशील मोदी ने कहा कि 2019 के संसदीय चुनाव में जब राजद का खाता नहीं खुला था, तब कांग्रेस कम से कम एक सीट महागठबन्धन के खाते में लाने में सफल हुई थी. उस समय भी राहुल गांधी ही कांग्रेस के नेता थे, लेकिन तब राजद को कोई शिकायत नहीं थी.

दरअसल राजद नोटबंदी, जीएसटी और सामान्य वर्ग के गरीबों को 10 फीसद आरक्षण देने जैसे एनडीए सरकार के बड़े फैसलों का विरोध करने के कारण जनता के चित से उतरता चला गया. अब किसानों की आय बढाने वाले कृषि कानूनों का विरोध कर राजद वही गलती दोहरा रहा है.

यह भी पढ़ें –

बिहार: किसान आंदोलन की अलख जगाने दिल्ली से पटना पहुंचे किसान नेता, कही ये बातें


RJD नेता तेजस्वी यादव का दावा- बिहार में 2021 में हो सकते हैं विधानसभा चुनाव

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*