ऑपरेशन समुद्र-सेतु: भारतीय नौसेना विदेशों से ऑक्सीजन कंटेनर और सिलेंडर लाने में जुटी, 9 युद्धपोत का हो रहा इस्तेमाल

नई दिल्ली: देश में ऑक्सजीन के लिए मचे हाहाकार के बीच भारतीय नौसेना विदेशों से ऑक्सजीन कंटेनर और सिलेंडर लाने में जुटी है. ऑपरेशन समुद्र-सेतु के तहत सोमवार यानि 10 मई को नौसेना के तीन युद्धपोत लिक्विड ऑक्सजीन, सिलेंडर और कंसन्ट्रेटर्स सहित दूसरे मेडिकल उपकरण लेकर देश के तीन बड़े बंदरगाहों पर पहुंच रहे हैं.

नौसेना के प्रवक्ता, कमांडर विवेक मधवाल के मुताबिक, ऑपरेशन समुद्र-सेतु के अंतर्गत तीन युद्धपोत कतर, कुवैत और सिंगापुर से 04 भरे हुए लिक्विड ऑक्सीजन कंटनेर (कुल क्षमता 27 मैट्रिक टन), आठ खाली ऑक्सीजन कंटनेर (क्षमता 20 एमटी), 900 भरे हुए ऑक्सीजन सिलेंडर, 3150 खाली सिलेंडर और 10 हजार रेपिड एंटीजन टेस्टिंग किट सहित काफी मात्रा में दूसरे मेडिकल उपकरण लेकर भारत पहुंच रहे हैं. इनमें से दो युद्धपोत भारत के दो अलग-अलग बंदरगाहों पर पहुंच भी गए हैं, और तीसरा शाम तक पहुंच रहा है.

नौसेना के मुताबिक, आईएनएस ऐरावत युद्धपोत आज सुबह सिंगापुर से आंध्रा-प्रदेश के विशाखापट्टनम पोर्ट पर आठ खाली क्रायोजैनिक ऑक्सीजन कंटनेर, 3150 खाली सिलेंडर, 500 भरे हुए सिलेंडर और 10 हजार रेपिड एंटीजन टेस्टिंग किट लेकर पहुंच गया है. इसके अलावा आईएनएस त्रिखंड भी फ्रांस की मदद से कतर से दो 27 मैट्रिक टन (एमटी)के भरे हुए ऑक्सीजन कंटनेर लेकर मुंबई पहुंच गया है.

नौसेना के मुताबिक, आईएनएस कोलकता युद्धपोत भी आज कतर और कुवैत से जरूरी चिकित्सा उपकरण लेकर कर्नाटक के मंगलौर बंदरगाह पहुंच रहा है. इस युद्धपोत में दो 27 एमटी के भरे हुए ऑक्सीजन कंटनेर, 400 ऑक्सजीन सिंलेंडर, 47 ऑक्सजीन कंसंट्रेटर ला रहा है.

बता दें कि कोरोना महामारी के दौरान ऑक्सीजन की कमी के चलते नौसेना ने विदेशों से ऑक्सजीन कंटनेर और दूसरे मेडिकल उपकरण लाने के लिए ऑपरेशन समुद्र-सेतु छेड़ रखा है. इस ऑपरेशन में नौसेना के कुल 09 युद्धपोत जुटे हुए हैं. एक युद्धपोत, आईएनएस तलवार पहले ही 5 मई को लिक्विड ऑक्सीजन लेकर बहरीन से मंगलौर पहुंच गया था.

सेंट्रल विस्टा प्रोजेक्ट मामले में सुनवाई को राजी हुआ दिल्ली हाईकोर्ट, क्यों है इस पर रोक लगाने की मांग- जानें

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*