छत्तीसगढ़ में घट रहे कोरोना के नए केस, पॉजिटिविटी रेट में भी आई कमी, जानें कैसी है ऑक्सीजन और बेड की स्थिति 

<p style="text-align: justify;"><strong>रायपुर:</strong> देश में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर ने पिछले कुछ दिनों में कहर बरपा दिया है. कई राज्य सरकारों ने कोरोना की बढ़ती रफ्तार को देखते हुए लॉकडाउन लागू कर दिया है. लॉकडाउन लगाने वालों में छत्तीसगढ़ की सरकार भी शामिल है. यहां फिलहाल 15 मई तक लॉकडाउन है. हालांकि अब सख्त कदम उठाने के नतीजे सामने आने लगे हैं. छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण की रफ्तार में गिरावट आई है. नए मामलों से लेकर मौत तक पर कुछ हद तक अंकुश लगता दिख रहा है.</p>
<p style="text-align: justify;">छत्तीसगढ़ में 24 अप्रैल को 2021 को करीब 17 हज़ार कोरोना के मामले सामने आए थे, लेकिन 10 मई को सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक नए मामलों की संख्या 11 हज़ार 867 तक आ गई है. पिछले कुछ दिनों से लगातार कोरोना के मामलों में कमी देखी जा रही है.</p>
<p style="text-align: justify;">&nbsp;</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>पॉजिटिविटी रेट में कमी</strong></p>
<p style="text-align: justify;">नए मामलों के साथ साथ एक और बात जो राज्य के लोगों के लिए राहत की खबर हो सकती है वो ये कि यहां संक्रमण दर यानी पॉजिटिविटी रेट में भी कमी आई है. 23 अप्रैल को राज्य में पॉजिटिविटी रेट 31.4 तक पहुंच गई थी, जो कि 10 मई को घटकर 18.3 तक आ गई है. रोज़ाना होने वाली मौतों के आंकड़ों में भी थोड़ी गिरावट देखी गई है. इसी महीने 5 तारीख को छत्तीसगढ़ में 253 मरीज़ों की जान गई थी, जबकि 10 मई को मौतों का आंकड़ा 172 पर आ गया है.</p>
<p style="text-align: justify;">राज्य में कोरोना से सबसे ज्यादा प्रभावित ज़िलों में रायगढ़ पहले नंबर पर है. यहां 11523 एक्टिव कोरोना संक्रमित मरीज़ हैं, यानी जिनका इलाज किया जा रहा है. इसके बाद जांजगीर-चांपा में 10463, रायपुर में 9678, कोरबा में 7993, बिलासपुर में 7406, मुंगेली में 5961, राजनांदगांव में 5761, कोरिया में 5293, बलौदाबाज़ार में 5186 और महासमुंद में 5058 एक्टिव केस हैं.</p>
<p style="text-align: justify;">&nbsp;</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>राज्य में फिलहाल कितने बेड खाली हैं?</strong></p>
<p style="text-align: justify;">सरकारी आंकड़ों के मुताबिक छत्तीसगढ़ में 10 मई को 11719 सामान्य बेड खाली थे और 5338 पर मरीज़ों का इलाज किया जा रहा है. इसके अलावा 6284 &nbsp;ऑक्सीजन वाले बेड खाली हैं और 5338 ऑक्सीजन वाले बेड्स पर मरीज़ भर्ती हैं. सरकार के मुताबिक राज्य में फिलहाल 684 एचडीयू बेड्स, 783 आईसीयू बेड और 297 वेंटिलेटर्स वाले बेड खाली हैं.</p>
<p style="text-align: justify;">ऑक्सीजन के मामले में भी राज्य सरकार का कहना है कि वो फिलहाल आत्मनिर्भर हैं. छत्तीसगढ़ में फिलहाल 161.56 मीट्रिक टन ऑक्सीजन की आवश्यकता है, जबकि उत्पादन क्षमता 460 मीट्रिक टन की है.</p>
<p style="text-align: justify;">&nbsp;</p>
<p style="text-align: justify;"><strong>टीकाकरण अभियान कहां पहुंचा?</strong></p>
<p style="text-align: justify;">छत्तीसगढ़ में 10 मई तक 18 से 44 साल के 1 लाख 93 हज़ार 894 लोगों को कोरोना वायरस का टीका लगाया गया है. इनमें अग्रिम पंक्ति के 7056, एपीएल के 70516, अंत्योदय के 56505 और बीपीएल के 59817 लोगों को कोराना वैक्सीन की पहली डोज़ दी गई है. राज्य में 45 साल से ऊपर के 43.32 लाख लोगों को कोरोना वैक्सीन की पहली डोज़ और 4.99 लाख लोगों को दूसरी डोज़ लगाई गई है.&nbsp;</p>
<p style="text-align: justify;">छत्तीसगढ़ में अब तक 59.36 लाख कोरोना वायरस वैक्सीन की डोज़ लोगों को लगाई गई है. इनमें स्वास्थ्य कर्मी और फ्रंटलाइव वर्कर्स भी शामिल हैं. सरकार ने सभी जन प्रतिनिधियों से अपील की है कि कोरोना को लेकर लोगों को जागरूक करें और तमाम एहतियात बरतने के लिए उन्हें प्रेरित किया जाए.</p>

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*