कंज्यूमर कंपनियों को लगातार दूसरे साल झटका, एयरकंडीशनर, फ्रिज, कोल्ड ड्रिंक,आइसक्रीम की बिक्री में फिर भारी कमी

कोरोना के कहर से कंज्यूमर कंपनियों को लगातार दूसरी बार झटका लग रहा है. इस बार लगातार दूसरे साल कोल्ड वेबरेज, आइसक्रीम, एयरकंडीशनर, कूलर और रेफ्रिजरेटर की ‘समर कैटेगरी’ की बिक्री में भारी गिरावट की आशंका है. अप्रैल-मई 2019 में इन चीजों की जितनी बिक्री हुई थी उसकी तुलना में 2021 में यह आधी रहने की आशंका है. दरअसल कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की भयावहता ने लोगों को घरों के अंदर रहने को मजबूर कर दिया है. इस वजह से समर कैटेगरी की इन चीजों की बिक्री में गिरावट आ रही है. ज्यादातर लोग खाने-पीने की ठंडी चीजों से परहेज भी कर रहे हैं. इस वजह से आइसक्रीम, कोल्ड ड्रिंक और दूसरी ठंडी चीजों की बिक्री कम हो गई है. 

शहरी के साथ ग्रामीण बाजार में बिक्री गिरावट की चपेट में 

पिछले साल के उलट इस बार कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर में रूरल मार्केट पर भी असर पड़ा है. कोल्ड ड्रिंक और आइसक्रीम कंपनियों के लिए 2021 का अप्रैल-मई का महीना बिक्री के लिहाज से खराब रहा है. ग्रामीण और शहरी क्षेत्र दोनों जगह कंज्यूमर सेहत की सुरक्षा पर ध्यान दे रहे हैं. कोरोना की भयावहता ने लगभग हर परिवार को सतर्क रखने को मजबूर कर दिया है. पिछले साल भी इन चीजों की बिक्री में काफी गिरावट देखने को मिली था. इंडस्ट्री का कहना है कि इस साल 20 से 25 हजार करोड़ रुपये की बिक्री के नुकसान की आशंका है. 

अप्रैल में हुई थी अच्छी बिक्री लेकिन अब गिरावट 

हालांकि इकोनॉमिक टाइम्स की एक खबर के मुताबिक गोदरेज अप्लायसंज के बिजनेस हेड कमल नंदी ने कहा कि इस साल एयर कंडीशनर और  रेफ्रिजरेटर की बिक्री का आंकड़ा अच्छा रह सकता है क्योंकि अप्रैल के शुरुआती हफ्ते में अच्छी बिक्री हुई थी. पिछले साल मार्च में ही लॉकडाउन लग गया था. जबकि इस बार अप्रैल से अलग-अलग राज्यों में लॉकडाउन लग रहे हैं. इसलिए पिछले साल की तुलना में बिक्री के आंकड़े अच्छे रह सकते हैं. अगर मई में बिजनेस पूरी तरह बंद रहा तो दस हजार करोड़ रुपये का घाटा हो सकता है. 

निर्यात के मोर्चे पर बढ़त बरकरार, निर्यातकों के पास बढ़ने लगे हैं ऑर्डर

एलटीसी कैश पैकेज स्कीम के फाइनल सेटलमेंट की डेडलाइन बढ़ी, अब 31 मई तक जमा कर सकेंगे बिल

 

 

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*