Pappu Yadav News: पप्पू यादव की पत्नी आ रहीं पटना, सरकार को दी चेतावनी, कहा- आज सबको करूंगी बेनकाब

पटना: कोरोना काल में 32 साल पुराने अपहरण के मामले में जाप सुप्रीमो पप्पू यादव की गिरफ्तारी के बाद सूबे का सियासी पारा चढ़ गया है. पप्पू यादव की पत्नी और कांग्रेस की पूर्व सांसद रंजीत रंजन राज्य सरकार खासकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार पर हमलावर हैं. बीमार पति की गिरफ्तारी के बाद रंजीत लगातार मुख्यमंत्री पर निशाना साध रही हैं. 

पटना में करेंगी प्रेस कांंफ्रेंस

इसी क्रम में गुरुवार की सुबह उन्होंने ट्वीट कर फिर एक बार सरकार को चेतावनी दी है. उन्होंने कहा, ” मैं आज पटना आ रही हूं. पप्पू यादव जी पर हुक्मरानों के जुल्मोसितम के बावजूद लोगों को मदद अनवरत मिलती रहेगी. कोरोना के दौर में मानवता को बचाना प्रथम लक्ष्य. प्रेस से संवाद कर सरकार को आज बेनकाब करूंगी.”

 

इससे पहले बुधवार को भी उन्होंने ट्वीट कर सरकार को चेतावनी दी थी. उन्होंने कहा था, ” नीतीश जी, पप्पू जी कोरोना निगेटिव हैं, अगर वह पॉजिटिव हुए तो आपको, इस साजिश में शामिल चार लोगों और एम्बुलेंस चोरों को सीएम आवास से निकाल बीच चौराहे पर नहीं खड़ा किया तो मेरा नाम रंजीत रंजन नहीं.”

 

बता दें कि पिता की गिरफ्तारी के बाद सार्थक रंजन भी बुधवार को लाइव आए थे. सार्थक रंजन ने कहा था, “मेरे पिता इस महामारी में लोगों को खाना पहुंचाते थे, जिन्हें जिस चीज की जरूरत होती थी वह दे रहे थे. पर अब ऐसा लग रहा है कि दवाइंयों की कालाबाजारी को पेश करना गलत है. सबसे बड़ी उनकी गलती ये है कि वो लोगों के लिए एक नेता के घर पर लगी एंबुलेंस के बारे में सबको बताए. वो बस यही चाह रहे थे कि वो सारी एंबुलेंस लोगों के काम आए. मरीजों की मदद की जा सके लेकिन ऐसा करना सबसे बड़ा उनके लिए जुर्म हो गया.”

मालूम हो कि बिहार के मधेपुरा जिले के कुमारखंड थाने में साल 1989 में दर्ज अपहरण मामले में पुलिस ने जाप सुप्रीमो पप्पू यादव को गिरफ्तार कर लिया है. मधेपुरा जिले की पुलिस मंगलवार को चार बजे के करीब पटना पहुंची और हाई वोल्टेज ड्रामा और विरोध प्रदर्शन के बीच पप्पू यादव को मधेपुरा के लिए लेकर निकल गई. बुधवार की रात करीब एक बजे उनकी पेशी करवाई गई. पेशी के बाद सुप्रीमो पप्पू यादव को 14 दिनों के रिमांड पर लेते हुए वीरपुर जेल में रखा गया है.

यह भी पढ़ें –

लॉकडाउन में आर्थिक तंगी से जूझ रहे खरबूज की खेती करने वाले किसान, दो रुपये किलो बेचने को हैं मजबूर

डॉक्टर ने जिस अस्पताल में की ड्यूटी, बीमार होने पर वहां नहीं लिया भर्ती, मदद के लिए घूमते रहे परिजन

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*