भारत में इस साल 85 करोड़ से डोज ज्यादा स्पुतनिक-V वैक्सीन का होगा उत्पादन: RDIF

देश में कोरोना संकट के बीच इस वक्त वैक्सीन की कमी के चलते कोविड-19 खिलाफ लड़ाई कमजोर पड़ती हुई दिख रही है. कोविड के ज्यादातर अस्पतालों में बेड फुल है और ऑक्सीजन की कमी के चलते मरीज अस्पतालों में दम तोड़ रहे हैं. लेकिन राहत की बात अब ये हैं कि देश में कोविशील्ड और कोवैक्सीन के अलावा तीसरा हथियार भी रूस से आ चुका है. रूस में बनी स्पुतनिक-V वैक्सीन का पहला टीका भारत में शुक्रवार को लगाया गया और अगले हफ्ते से इसकी वैक्सीन की डोज आम लोगों को लगनी शरू हो जाएगी.

भारत में 85 करोड़ से डोज ज्यादा स्पुतनिक-V का उत्पादन

इस बीच रशियन डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड (RDIF) के सीईओ किरिल्ल दमित्रिएव ने शुक्रवार को कहा, “स्पुतनिक-V रूस-भारत की एक वैक्सीन है. इसके एक बड़े हिस्सा का उत्पादन भारत में किया जाएगा. हम यह उम्मीद करते हैं कि इस साल भारत में स्पुतनिक-V के 85 करोड़ से ज्यादा वैक्सीन का निर्माण किया जाएगा. हम जल्द भारत में स्पुतनिक-V लाइट वैक्सीन के लगाने की उम्मीद करते हैं.”   

995 रुपये की मिलेगी स्पुतनिक वैक्सीन

इधर, डॉक्टर रेड्डी लैब्स ने कहा- “हैदराबाद में आज स्पुतनिक-V के सॉफ्ट लाउंच की शुरुआत हो गई है. वैक्सीन की अगली खेप की हम जल्द उम्मीद करते हैं. भारत में यह कस्टमर्स को स्टॉक बढ़ाने के बाद मध्य जून से मिलने शुरू हो जाएगी.” भारत में रूसी वैक्सीन स्पुतनिक-वी की कीमत तय कर दी गई है. इसकी कीमत 948 रुपये होगी, जिस पर पांच फीसदी जीएसटी लगेगा और जिसके बाद इसके एक डोज की कीमत 995 रुपये हो जाएगी.

दवा कंपनी डा. रेड्डीज लैब ने शुक्रवार को कहा की सीमित शुरुआत के तौर पर कोविड- 19 का टीका स्पुतनिक-वी का पहला टीका हैदराबाद में लगाया गया. कंपनी ने कहा कि रूस के टीके स्पुतनिक-वी की पहली खेप एक मई को भारत पहुंची. इस वैक्सीन को केन्द्रीय दवा प्रयोगशाला, कसौली से 13 मई 2021 को मंजूरी मिली. इस दवा की और खेप आने वाले महीनों में भारत पहुंचने वाली है. उसके बाद भारतीय विनिर्माता भागीदारों से भी इसकी आपूर्ति शुरू हो जाएगी. स्थानीय विनिर्माताओं से इसकी आपूर्ति शुरू होने पर इसका दाम कम होने की संभावना है.

भारत में कब से लगनी शुरू होगी स्पुतनिक-वी वैक्सीन, जानें कीमत से लेकर सब कुछ

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*