यमुना एक्सप्रेस-वे पर हर साल होते हैं 400 हादसे, रोकने के लिए उठाए जा रहे हैं ये कदम- पढ़ें स्पेशल रिपोर्ट

नोएडा: यमुना एक्सप्रेस वे पर रफ्तार का जुनून हादसों को दावत दे रहा है. आए दिन होने वाले हादसों की वजह से प्रशासन भी अब मुस्तैद हो गया है और इन हादसों पर रोक लगाने की कवायद शुरू की गई है, जिसके लिए कई तरह के कदम उठाए जा रहे हैं. इस रिपोर्ट के जरिए आप भी समझने की कोशिश कीजिए की हादसे क्यों हो रहे हैं और उन्हें रोकने के लिए क्या कदम उठाए जा रहे हैं.

यमुना एक्सप्रेस वे पर लगातार बढ़ते हादसे लोगों की जान पर भारी पड़ रहे हैं. यहां पर रोजाना ही कोई ना कोई गाड़ी हादसे का शिकार हो जाती है.जिसमें सफर करने वाले या तो बुरी तरह जख्मी हो जाते हैं या फिर उन्हें अपनी जान से ही हाथ धोना पड़ता है. वहीं हादसों की वजह से यमुना एक्सप्रेस वे अथॉरिटी पर भी सवाल खड़े हो रहे हैं.

रात भर पेट्रोलिंग कर रहे हैं पुलिस के जवान

हादसों के बढ़ने के बाद अब यमुना एक्सप्रेस वे पर तैनात पुलिस वालों को लोगों को जागरुक करने के काम पर लगाया गया है. पुलिस के जवान रात भर मुस्तैदी से पेट्रोलिंग करते हुए मिले जहां क़िसी भी आपात स्थिति में लोग तक जल्द से जल्द मदद पहुंचाई जा सके.

यमुना एक्सप्रेस-वे पर हर साल करीब 400 हादसे होते हैं

यमुना एक्सप्रेस वे पर हर साल करीब 400 हादसे होते हैं. अगर ठंड की बात करें तो पिछले 4 महीने में ही यहां पर 100 के करीब हादसे हो चुके हैं. यमुना एक्सप्रेस वे पर हादसे की सबसे बड़ी वजह लोगों का तेज रफ्तार गाड़ी चलाना है. जिसके लिए अब यमुना एक्सप्रेस वे अथॉरिटी स्पीडो मीटर लगा चुकी है.बावजूद इसके हादसे कम होने का नाम नहीं ले रहे हैं.

यमुना एक्सप्रेस-वे अथॉरिटी ने लगाया है स्पीडो मीटर

लोगों की स्पीड पर नियंत्रण रखने के लिए यमुना एक्सप्रेस वे अथॉरिटी की ओर से ऐसे मीटर लगाए गए हैं. जो कि इसपर चलने वाले वाहनों की रफ्तार देखते हैं और अगर स्पीड मानकों से ज्यादा है तो उस हालत में उन गाड़ियों का चालान भी किया जाता है. इस कोशिश का असर भी अब पड़ने लगा है और जो भी लोग ओवर स्पीडिंग में पकड़े जाते हैं. उनका चालान भी किया जा रहा है. ऐसे में उन लोगों की तादाद कम हो रही है जो रफ्तार के जुनून में हादसों को दावत देते थे. लेकिन एक सच ये भी है कि इसके बाद भी कुछ लोग मानने को तैयार नहीं हैं.जिनकी गलती यमुना एक्सप्रेस वे पर हादसे की वजह बन रही है.

लगातार लोगों को समझाने की कोशिश की जा रही है कि वो सजग रहें. क्योंकि उनकी जान बहुत कीमती है और रफ्तार का जुनून उनकी जिंदगी पर भारी पड़ सकता है. माना जा रहा है कि जो मुहिम हादसों को लेकर ट्रैफिक पुलिस ने यहां चला रखी है उसका फायदा भी जल्द ही दिखने लगेगा.जिसके बाद उम्मीद की जा सकती है कि यमुना एक्सप्रेस वे पर हादसों की तादाद घट जाएगी,और यहां पर सफर करने वालों की जिंदगी महफूज रहेगी.

महाराष्ट्र के बाद आज से कर्नाटक में लगा नाइट कर्फ्यू, रात 10 से सुबह 6 बजे तक रहेगा लागू

चीन, अमेरिका, ब्रिटेन में वैक्सीनेशन शुरू, राहुल ने पूछा- ‘भारत का नंबर कब आएगा, मोदी जी?’

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*