यूपी: पीलीभीत में खेतों में खुलेआम बाघ ने गाय के बछड़े को बनाया अपना शिकार, वन विभाग के अधिकारियों ने दी सफाई

पीलीभीत में खेतों में खुलेआम बाघ ने गाय के बछड़े को अपना शिकार बना डाला. घटनास्थल पर मौजूद स्थानीय लोग चीख पुकार करते रहे और बाघ ने अपना शिकार बनाकर उसे सबके सामने खेत में खींच लिया. बाघ के हमले से गाय के बछड़े की मौके पर ही मौत हो गई.

दरअसल, पीलीभीत के थाना माधौटांडा क्षेत्र के ग्राम किरनापुर शाहगढ़ में बीते दिनों से बाघ की दहशत है. जिसको लेकर वन विभाग के आला अफसर बाघ की मॉनिटरिंग कर जागरूकता का दावा पेश कर रहे हैं. लेकिन सारे दावों की पोल खोलती ये घटना से वन विभाग की लापरवाही साफ़ दिखाई दे रही है.

बाघ ने गांव में घुसकर मचाई तबाही 

घटनास्थल पर मौजूद लोगों ने बताया कि बाघ अचानक ही उनके गांव में घुस गया और तबाही मचानी शुरू कर दी. बाघ ने खेतों में बछड़े को झपटकर उसे ग्रामीणों की भीड़ के सामने से खींच लिया. उन्होंने बताया कि ये मामला पीलीभीत टाईगर रिजर्व से सटे ग्रामीण इलाके का है. इस घटना को होते देखकर ग्रामीण शोर शराबा कर चिल्लाते रहे लेकिन बाघ ने अपना शिकार कर बछड़े को मौत के घाट उतार दिया.

वन विभाग के अधिकारी ने दी ये जानकारी

इस मामले पर जानकारी देते हुए वन विभाग के अधिकारी ने बताया कि बीते कई दिनों से बाघ के मूवमेंट एरिया में वन विभाग की टीम द्वारा लगातार मॉनिटरिंग कर जागरूकता फैलाई जा रही है. इसके अलावा, लोगों को सतर्क रहने के निर्देश भी दिए जा चुके हैं. उन्होंने बताया कि बाघ को जंगल की ओर ले जाने का प्रयास किया जा रहा है.

यूपी: पीलीभीत में खेतों में खुलेआम बाघ ने गाय के बछड़े को बनाया अपना शिकार, वन विभाग के अधिकारियों ने दी सफाई

इस घटना के बाद से डरे हुए हैं ग्रामीण

इस घटना के बाद ग्रामीण डर काफी गए हैं. वहीं, लोग अब अपने घरों से बाहर निकलने से भी परहेज कर रहे हैं. ग्रामीणों ने बताया कि वन विभाग को जल्द से जल्द बाघ को यहां से निकालना होगा नहीं तो उनके जान पर भी खतरा मंडराता रहेगा. ग्रामीणों ने बताया कि वे रातभर सो नहीं पा रहे हैं.

ये भी पढ़ें :-

विप्रो करेगी 9500 करोड़ रुपये के शेयरों का बायबैक, 300 रुपये के हिसाब से खरीदेगी शेयर

Gold Rate Today: गोल्ड और सिल्वर में गिरावट का दौर, जानें आज की कीमतों का ताजा अपडेट

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*