किताब में खुलासा- छोटे दलों को साधने में असफल कोशिश के चलते 1999 में गिर गई थी वाजपेयी सरकार

नई दिल्ली: लोकसभा में 1999 में महज एक वोट से तत्कालीन वाजपेयी सरकार गिर जाने के बारे में एक नयी किताब में दावा किया गया है कि बीजेपी छोटी पार्टियों के साथ तालमेल बिठा पाने में नाकाम रही थी, जो इस घटनाक्रम के लिए मुख्य वजह थी. हालांकि बीजेपी से हमदर्दी रखने वाले वाजपेयी सरकार गिरने के लिए तत्कालीन कांग्रेस सांसद गिरधर गमांग और नेशनल कांफ्रेंस के सैफुद्दीन सोज को मुख्य दोषी मानते हैं.

सिन्हा ने लिखी है ‘वाजपेयी: द ईयर्स दैट चेंज्ड इंडिया’ शीर्षक से किताब

‘वाजपेयी: द ईयर्स दैट चेंज्ड इंडिया’ शीर्षक से यह किताब शक्ति सिन्हा ने लिखी है, जो पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के कई वर्षों तक निजी सचिव रहे थे और उन्होंने प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) में भी सेवा दी थी. केंद्र में बनी बीजेपी की पहली सरकार की कार्यप्रणाली और अन्नाद्रमुक की नेता जे जयललिता द्वारा वाजपेयी सरकार से समर्थन वापस लेने के बाद यह कैसे 13 दिनों में गिर गई थी, इसके बारे में किताब में विस्तृत जानकारी प्रस्तुत की गई है.

सिन्हा ने अपनी किताब में लिखा है कि वाजपेयी सरकार के पतन के लिए भले ही गमांग को दोषी ठहराया जाता है लेकिन कई ऐसे लोग थे जिन्होंने इसमें अपनी भूमिका निभाई थी. उन्होंने लिखा, ‘‘इसमें एक बड़ी भूमिका छोटे दलों को साधने में बीजेपी की असफलता थी.’’ उन्होंने उदाहरण देते हुए बताया कि अरूणाचल कांग्रेस के वांगचा राजकुमार ने लोकसभा में विश्वास मत से बहुत पहले ही वाजपेयी को आश्वासन दिया था कि उनकी क्षेत्रीय पार्टी में फूट के बावजूद सरकार को उनका समर्थन जारी रहेगा. उन्होंने किताब में लिखा कि उस समय वाजपेयी सरकार को कोई खतरा नहीं था लेकिन दुर्भाग्य से जब विश्वासमत का समय आया तब किसी को राजकुमार से संपर्क साधना याद नहीं रहा. उन्होंने सरकार के खिलाफ मतदान किया.

सोज से बातचीत की गई होती तो उसका सकारात्मक परिणाम आता- किताब

सिन्हा ने किताब में कहा कि सोज से बेहतर तरीके से बातचीत की गई होती तो उसका सकारात्मक परिणाम आता. सोज उस वक्त नेशनल कांफ्रेंस के सदस्य थे और उनकी पार्टी के दो सांसद थे. दूसरे उमर अब्दुल्ला थे. जम्मू और कश्मीर के तत्कालीन मुख्यमंत्री फारुक अब्दुल्ला जो उस वक्त नेशनल कांफ्रेंस के मुखिया भी थे, ने अपने बेटे उमर अब्दुल्ला को आगे बढ़ाया और सोज को ‘‘बहुत तुच्छ तरीके से पार्टी में किनारे किया’’.

किताब के मुताबिक सोज ने आधिकारिक हज प्रतिनिधिमंडल के लिए कुछ नाम सुझाए थे लेकिन फारुक अब्दुल्ला ने उन नामों को हटा दिया था. किताब में आगे बताया गया कि जब छह दिसंबर 1998 को वाजपेयी ने श्रीनगर का दौरा किया तब उनकी मुलाकात स्थानीय सरकार के मंत्रियों से प्रस्तावित थी लेकिन थोड़ी देरी के कारण यह मुलाकात स्थगित हो गई थी.

गुजराल ने भी सरकार गिराने के लिए मतदान किया था- किताब

सिन्हा ने लिखा, ‘‘इसका खामियाजा वाजपेयी को भुगतना पड़ा. उमर अब्दुल्ला ने विश्वास मत के समर्थन में मतदान किया वहीं सोज ने उसके खिलाफ.’’ उन्होंने बताया कि पूर्व प्रधानमंत्री आई के गुजराल ने भी सरकार गिराने के लिए मतदान किया था. वह अकाली दल की सहायता के बगैर जनता दल के टिकट पर लोकसभा चुनाव नहीं जीत सकते थे जबकि अकाली दल उस समय सरकार का हिस्सा था.

सिन्हा ने किताब में बताया कि जनता दल के नेता रामविलास पासवान उस वक्त नहीं चाहते थे कि उनकी पार्टी लालू यादव के साथ मतदान करे लेकिन इसके बावजूद उन्होंने सरकार गिराने में भूमिका निभाई. लालू यादव की पार्टी उस समय बिहार में सत्ता में थी और जनता दल के नेता पासवान को मनाने में सफल रहें. हालांकि बाद में पासवान जनता दल से अलग हो गए और फिर बीजेपी से हाथ मिलाकर वह केंद्र में मंत्री भी बनें.

यह भी पढ़ें-

ब्रिटेन में कोरोना के एक और स्ट्रेन से हड़कंप, साउथ अफ्रीका से आ रहे लोगों की रोकी यात्रा, लॉकडाउन सख्त

दिल्ली में UK से आए यात्री कोरोना के नए स्ट्रेन के शिकार हैं या नहीं? जांचने के लिए की जाएगी जिनोम सिक्वेंसिंग

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*