दोपहर में सोने के लिए दिया जाएगा अनिवार्य ब्रेक! सही पढ़ा- देश के इस सूबे में किया गया अनोखा चुनावी वादा

नई दिल्ली: गोवा में साल 2022 में विधानसभा चुनाव होने वाले हैं. ऐसी उम्मीद है कि गोवा विधानसभा चुनाव 2022 के लिए अगले साल चुनाव प्रचार अभियान की शुरुआत हो सकती है. हालांकि इससे पहले ही अब राजनीतिक पार्टियां चुनावी वादें कर रही हैं. इस बीच गोवा फॉरवर्ड पार्टी ने एक अजीब तरह का चुनावी वादा किया है.

गोवा विधानसभा चुनाव 2022 के लिए पहला चुनावी वादा सामने आ चुका है. गोवा फॉरवर्ड पार्टी ने कहा है कि वो दोपहर में सोने के लिए अनिवार्य घंटों की प्रक्रिया को सुनिश्चित करेंगे. रिपोर्ट्स के मुताबिक गोवा फॉरवर्ड पार्टी के प्रमुख विजय सरदेसाई ने ऐलान करते हुए कहा है कि अगर आने वाले चुनाव में उन्हें मुख्यमंत्री बनाया जाता है तो वह दोपहर में सोने के लिए 2 से 4 बजे के बीच अनिवार्य आराम के घंटों की व्यवस्था को सुनिश्चित करेंगे.

सुसेगाड

गोवा की पहचान के लिए विजय सरदेसाई की पार्टी गोवा फॉरवर्ड पार्टी काफी आक्रामक रही है. विजय सरदेसाई का कहना है कि ‘सुसेगाड’ को बचाने की दरकार है. पुर्तगाली शब्द सोसेगैडो से सुसेगाड शब्द आया है. इसका मतलब ‘शांति’ है. वहीं दोपहर की झपकी सुसेगाड का एक अभिन्न अंग है.

विजय सरदेसाई का कहना है कि मेडिकल रूप से भी यह तथ्य साबित हो चुका है कि छोटी झपकी या दोपहर में आराम करने वाले लोगों की याददाश्त काफी अच्छी होती है. इससे नौकरी करने वाले लोग भी बेहतर तरीके से काम कर सकते हैं. साथ ही इससे काफी अलर्ट रहने में मदद मिलती है और मनोदशा में भी इजाफा होता है.

गोवा की संस्कृति

वहीं ऐसा भी देखा गया है कि कई लोग दोपहर में सोने को आलस के साथ जोड़ते हैं. हालांकि इससे विजय सरदेसाई इत्तेफाक नहीं रखते हैं. सरदेसाई का कहना है कि यह गोवा की संस्कृति है. सभी लोगों को इसका सम्मान करना चाहिए और इससे सीख लेने की दरकार है. राज्य में बड़े बदलावों के लिए सुसेगाड को संरक्षण देने की आवश्यकता है.

(रिपोर्ट: इंडियन एक्सप्रेस)

यह भी पढ़ें:

ब्लोंड हेयर और न्यूड मेकअप में दिखा निया शर्मा का ग्लैमरस लुक, गोवा में मना रही हैं वेकेशन

दिल्ली, राजस्थान, गुजरात और गोवा से महाराष्ट्र आने वालों के लिए गाइडलाइंस जारी, पढ़ें मुख्य बातें

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*