Drone कैसे काम करता है, भारत में इसको लेकर क्या गाइडलाइन्स और कितना जुर्माना है? | जानिए सबकुछ

जम्मू कश्मीर में हाल ही में जम्मू के एयरफोर्स स्टेशन पर दो ड्रोन्स के ज़रिए धमाके को अंजाम दिया गया. भारत में ड्रोन के जरिए धमाका करने का यह पहला मामला था. हालांकि इससे पहले कई बार पाकिस्तान से सटे बॉर्डर्स पर ड्रोन देखे गए हैं. यहां तक की पंजाब में सीमा पार से ड्रोन के जरिए नशीले पदार्थों की तस्करी के भी कई मामले सामने आए, लेकिन इस बार जम्मू की घटना ने सुरक्षाबलों और सरकार को चिंता में डाल दिया है. इस हमले के बाद अब भारत में ड्रोन के इस्तेमाल को लेकर बहस छिड़ गई है. इस रिपोर्ट में जानिए आखिर ड्रोन कैसे ऑपरेट होते हैं. इनसे क्या नुकसान हो सकता है और देश में ड्रोन्स को लेकर सरकार की क्या गाइडलाइन्स हैं.

आसान भाषा में समझिए ड्रोन क्या होता है?

ड्रोन्स को UAV यानी Unmanned aerial vehicles या RPAS यनी Remotely Piloted Aerial Systems भी कहा जाता है. यह एक ऐसा उपकरण है, जिसमें एचडी कैमरे लगे होते हैं. इसमें ऑनबोर्ड सेंसर और जीपीएस लगा होता है. इसे एक सॉफ्टवेयर के जरिए नियंत्रित किया जा सकता है. इसके चारों और 4 रोटर्स लगे होते हैं, जिनकी मदद से ये आसमान की ऊंचाईयों को छूता है. आम बोल चाल वाली भाषा में इसे मिनी हैलिकॉप्टर भी कहा जाता है. यह बहुत कम भार उठा पाते हैं.

कैसे ऑपरेट होता है ड्रोन?

ड्रोन को उड़ाने के लिए सॉफ्टवेयर, जीपीएस और रिमोट सबसे जरूरी होता है. रिमोट के जरिए ही ड्रोन ऑपरेट होते हैं और इनको कंट्रोल किया जाता है. ड्रोन पर लगे रोटर्स की गति को रिमोट की जॉयस्टिक के जरिए कंट्रोल किया जाता है. वहीं, जीपीएस एक प्रकार से ड्रोन का सुरक्षा कवच होता है, जो दुर्घटना होने से पहले ही ऑपरेटर को चेतावनी भेज देता है. जीपीएस की मदद से ही ड्रोन उड़ता है और इसे उड़ाने के लिए खुली जगह की जरूरत पड़ती है.

ड्रोन कहां और क्यों इस्तेमाल किए जाते हैं?

साल 1991 के खाड़ी युद्ध में अमेरिकी सेना ने अपने दुश्मन को निशाना बनाने के लिए पहली बार ड्रोन का इस्तेमाल किया था. वर्तमान में इसका इस्तेमाल….

  • ई-कॉमर्स सामानों की डिलीवरी
  • तस्वीरें लेने
  • वीडियो शूट करने
  • नेशनल हाइवे की मैपिंग करने
  • रेलवे ट्रैक की मैपिंग करने
  • वनों की निगरानी करने
  • और कृषि कार्यों से जुड़े काम और अन्य कामों के लिए किया जाता है.

यह भी पढ़ें-

Explained: हीरे चाहिए या ऑक्सीजन? MP में बक्सवाहा हीरा खदान को लेकर विरोध | पूरा मामला समझिए

New TDS Rule: 1 जुलाई से लागू होंगे नए टीडीएस नियम, जानिए इससे जुड़ी जरूरी बातें

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*