बिहार में ट्रांसफर-पोस्टिंग पर बवाल, 257 बीईओ के तबादले पर रोक, शिक्षा विभाग ने वापस लिया आदेश

पटना: बिहार में जून के महीने को तबादलों का महीना कहा जाता है. महीने के अंत तक अमूमन हर विभाग के अधिकारियों का तबादला किया जाता है. कल यानी 30 जून को भी हर विभाग को मिलाकर राज्य में 1500 से भी अधिक अधिकारियों का किया गया है. लेकिन तबादले के बाद राज्य में बवाल मचा हुआ है. सत्ताधारी दल के विधायक ने नीतीश कैबिनेट के मंत्रियों पर ट्रांसफर-पोस्टिंग के नाम पर वसूली करने का आरोप लगाया है. 

257 बीईओ के तबादले पर रोक

इधर, आरोप प्रत्यारोप के बीच बिहार के शिक्षा विभाग ने बड़ा फैसला लिया जाए. विभाग के प्राथमिक शिक्षा निदेशालय ने 30 जून को जारी 257 बीईओ के तबादले के आदेश को वापस ले लिया है. विभाग की ओर से इस बाबत पत्र जारी कर जानकारी दी गई है. 

शिक्षा विभाग की ओर से जारी पत्र में कहा गया है, “अवर शिक्षा सेवा (प्राथमिक शाखा) संवर्ग के पदाधिकारियों का स्थानान्तरण निदेशालय आदेश ज्ञापांक-431 तारीख 30.06.2021 द्वारा किया गया था. निर्देशानुसार उक्त आदेश द्वारा किए गए स्थानांतरण के क्रियान्वयन को तत्काल प्रभाव से स्थगित किया जाता है.”

 

बीजेपी विधायक ने लगाया आरोप

बता दें कि बाढ़ विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी विधायक ज्ञानेंद्र सिंह ज्ञानू ने अपने ही सरकार के मंत्रियों पर तबादले के नाम पर वसूली का आरोप लगाया है. साथ ही पूरे मामले की जांच की मांग की है.

बीजेपी विधायक ने गुरुवार को कहा कि इस बार के तबादले में खुलकर पैसे लिए गए हैं. इसमें ज्यादातर बीजेपी के मंत्री शामिल हैं.  एक-एक अफसर को 5-5 बार फोन किया गया कि आइये पैसा दीजिए, तब आपका ट्रांसफर होगा. पैसे देने पर भी जिनका ट्रांसफर नहीं हुआ, उन्होंने शिकायत भी की है. विभाग के लोगों ने भी बताया है कि खुलकर पैसे लिए जा रहे हैं. सेक्रेट्री के विरोध के बावजूद भी ये काम हो रहा है.”

यह भी पढ़ें –

नीतीश कुमार के मंत्री मदन साहनी ने इस्तीफे का एलान किया, कहा- चपरासी तक हमारी बात नहीं सुनते

BJP MLA ने CM नीतीश के मंत्रियों पर लगाया ‘वसूली’ का आरोप, कहा- तबादले में सभी ने जमकर लिए पैसे

Source link ABP Hindi


Be the first to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published.


*