Assam-Meghalaya Dispute: असम और मेघालय के बीच फिर तनाव, आमने-सामने की स्थिति में पुलिस बल

Assam-Meghalaya Dispute: असम के पश्चिम कार्बी आंगलोंग जिले और मेघालय के री-भोई जिले के बीच का क्षेत्र मंगलवार से तनावपूर्ण है. बुधवार को स्थिति तब और गंभीर हो गई जब री-भोई जिले के कुछ लोग और मेघालय पुलिस की एक टीम ने कथित तौर पर असम के पश्चिम कार्बी आंगलोंग जिले में उमलाफेर क्षेत्र में घुसने की कोशिश की. असम पुलिस टीम ने उन्हें पीछे धकेल दिया था, इसके कारण दोनों पड़ोसी राज्यों के पुलिस बल के बीच आमना-सामना हुआ.

रिपोर्ट्स के अनुसार, मेघालय के री-भोई जिले के तीन युवकों को 23 अगस्त की रात को अंतर-राज्यीय सीमा पर असम पुलिस की एक टीम ने कथित तौर पर पीटा था और इस घटना के बाद मेघालय के लोगों के एक समूह ने असम की एक पुलिस चेक पोस्ट को 24 अगस्त को उमलाफेर इलाके में कथित रूप से क्षतिग्रस्त कर दिया था.

पश्चिम कार्बी आंगलोंग जिले के पुलिस अधीक्षक (एसपी) अजगवारन बसुमतारी ने कहा कि मेघालय के 100 से अधिक लोगों और पुलिसकर्मियों के मंगलवार की घटना पर बैठक की मांग करने के बाद बुधवार को स्थिति तनावपूर्ण हो गई थी.

बसुमतारी ने कहा कि असम की ओर से कई लोग भी मौके पर जमा हो गए और बाद में हमारे पुलिसकर्मियों और नागरिकों द्वारा मेघालय पुलिस कर्मियों और नागरिकों को वापस भेजने में कामयाब होने के बाद स्थिति को नियंत्रण में लाया गया. लेकिन कुछ घंटों बाद, मेघालय की एक पुलिस टीम असम के अंदर लगभग 15 किमी अंदर घुस गई और स्थानीय निवासियों ने मेघालय पुलिस के वाहनों को रोक लिया और दोनों समूहों के बीच कुछ धक्का-मुक्की हुई और बाद में मेघालय पुलिस को वापस ले लिया गया.

पश्चिम कार्बी आंगलोंग जिले के एसपी ने आगे कहा कि स्थिति अब नियंत्रण में है. दूसरी ओर री-भोई जिला पुलिस ने दावा किया कि मेघालय पुलिस का एक अधिकारी बुधवार को स्थिति को नियंत्रित करने की कोशिश में घायल हो गया, जबकि असम और मेघालय दोनों के बीच बड़ी संख्या में लोग विवादित क्षेत्र में आमने-सामने आ गए. राज्य की सीमा असम और मेघालय के बीच अंतरराज्यीय सीमा विवाद पर मुख्यमंत्री स्तर की दो दौर की बैठक शिलांग और गुवाहाटी में हुई. 6 अगस्त को गुवाहाटी में हुई पिछली बैठक में, असम और मेघालय सरकार दोनों ने अंतर-राज्यीय सीमा विवाद के मुद्दे को चरणबद्ध तरीके से हल करने का निर्णय लिया था.

दोनों राज्यों के कैबिनेट मंत्रियों की अध्यक्षता में तीन समितियां गठित की जाएंगी और 12 विवाद क्षेत्रों में से छह को प्राथमिकता के आधार पर हल करने के लिए चिन्हित किया गया है. असम के मुख्यमंत्री डॉ हिमंत बिस्वा सरमा और उनके मेघालय समकक्ष कोनराड संगमा ने कहा कि, दोनों राज्यों ने कैबिनेट मंत्रियों की अध्यक्षता में प्रत्येक पक्ष से तीन समितियां बनाने का फैसला किया है और समितियां चिन्हित छह स्थानों का दौरा करेंगी और वे 30 दिनों के भीतर अपनी रिपोर्ट सौंपेंगी.

पहले चरण में, छह स्थानों- ताराबारी, गिज़ांग, फहाला, बकलापारा, खानापारा (पिलिंगकाटा) और रातचेरा में मतभेदों को हल करने के लिए कदम उठाए जाएंगे और ये क्षेत्र असम के कछार, कामरूप और कामरूप मेट्रोपॉलिटन जिलों और पश्चिम खासी हिल्स के अंतर्गत मेघालय के री-भोई और पूर्वी जयंतिया हिल्स आते हैं.

दोनों राज्यों ने छह चिन्हित क्षेत्रों में मतभेदों को सुलझाने के लिए संयुक्त रूप से काम करना शुरू करने के लिए तीन पांच सदस्यीय क्षेत्रीय समितियों का गठन करने का फैसला किया है. इनमें से प्रत्येक समिति का नेतृत्व संबंधित राज्यों के कैबिनेट मंत्री करेंगे और यदि आवश्यक हो तो इसमें नौकरशाह और स्थानीय प्रतिनिधि शामिल होंगे.

WB Bypolls: 5 सदस्यीय TMC प्रतिनिधिमंडल उपचुनाव के मुद्दे को लेकर आज चुनाव आयोग से करेगा मुलाकात

Mizoram Corona Cases: मिजोरम में कोरोना पॉजिटिविटी दर अभी भी 9 फीसदी से अधिक, नए केस में 198 बच्चे शामिल

Source link ABP Hindi