Bihar News: उत्तर बिहार पर फिर मंडरा रहा बाढ़ का खतरा, गंडक बराज से डिस्चार्ज के बाद बढ़ी परेशानी

बगहा: उत्तर बिहार (North Bihar) में फिर एक बार बाढ़ (Flood) की स्थिति उत्पन्न हो गई है. बीते कई दिनों से लगातार हो रही बारिश की वजह से नदियों का जलस्तर बढ़ गया है. ऐसे में शुक्रवार की सुबह चार बजे से नदी के निचले इलाकों में पानी छोड़ना शुरू कर दिया गया है. पानी छोड़ने की वजह से बगहा (Bagha) के कई इलाके जलमग्न हो गए हैं. गंडक नदी (Gandak River) का जलस्तर बढ़ने से वाल्मीकिनगर (Valmikinagar) के चकदहवा में बाढ़ की स्थिति उत्पन्न हो गई है.

घरों में घुसा पानी

जानकारी अनुसार वाल्मीकिनगर स्थित गंडक बराज (Gandak Barrage) से सुबह आठ बजे लगभग चार लाख क्यूसेक पानी का डिस्चार्ज किया गया है. इस वजह से बगहा, रामनगर और वाल्मीकिनगर के निचले इलाकों में स्थित घरों में पानी प्रवेश कर गया है. ऐसे में लोगों को फिर एक बार पलायन का डर सताने लगा है. इधर, लगातार हो रही बारिश ने किसानों की मेहनत पर पानी फेर दिया है. फसल पानी में डूब गया है, जिससे किसानों के सामने आर्थिक संकट की स्थिति उत्पन्न हो गई है. 

इधर, वाल्मीकिनगर स्थित टाइगर रिजर्व (Valmikinagar Tiger Reserve) में भी पानी प्रवेश कर गया है, जिस वजह से जानवर सुरक्षित स्थानों पर जाने के लिए इधर-उधर भटक रहे हैं. ऐसे में लोगों को इस बात का डर सता रहा है कि जानवर कहीं रिहायशी इलाकों में ना चले आए.  

तटबांध बनवाने की मांग की

बारिश से उत्पन्न स्थिति के संबंध में ग्राम आपदा प्रबंधन समिति के अध्यक्ष ने कहा कि गांव में रात से पानी बढ़ाना शरू हुआ है. सुबह चार बजे पानी इतना बढ़ गया कि लोग दहशत में आ गए. ऐसे में सरकार से हमारी अपील है कि गांव के पास दो किलोमीटर तक का एक तटबंध बना दिया जाए ताकि हर साल जो लोगों को मुसीबतों का सामान करना पड़ता है, वो खत्म हो जाए.

यह भी पढ़ें –

बड़ी खबर: तेज प्रताप यादव के ‘हनुमान’ आज LJP में होंगे शामिल, RJD के और कई नेताओं के नाम

बिहार: बुखार और उल्टी के बाद मुजफ्फरपुर में 2 बच्चों की हुई मौत, कई की स्थिति नाजुक

Source link ABP Hindi