Kaam Ki Baat: KYC के नाम पर होने वाले फ्रॉड से बचें, रिजर्व बैंक की इस सलाह का करें इस्तेमाल

RBI Advisory on KYC Fraud: हाल के दिनों में KYC (Know Your Customer) डॉक्यूमेंट के नाम पर हो रहे फ्रॉड के कई मामले सामने आए हैं. जालसाजी की इन घटनाओं के चलते लोगों को कई बार बड़ी परेशानी का सामना करना पड़ता है. अब रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने KYC के नाम पर हो रही जालसाजी और धोखाधड़ी की इन घटनाओं से बचने को लेकर लोगों के लिए कुछ सलाह दी हैं. RBI ने ट्विटर पर एक डॉक्युमेंट जारी कर लोगों को KYC के नाम पर हो रही जालसाजी से बचाव के बारे में बताया है. 

RBI ने KYC डॉक्युमेंट के नाम पर हो रहे इस फ्रॉड को लेकर ग्राहकों को अधिक सावधानी बरतने को कहा है. RBI के मुताबिक, “हमें लगातार KYC डॉक्यूमेंट में अपडेट कराने के नाम पर हो रही जालसाजी की शिकायतें मिल रही हैं. कई कस्टमर्स इन फ्रॉड के शिकार हुए हैं.” साथ ही RBI ने बताया, “लोगों को हमारी सलाह है कि वो अपने बैंक अकाउंट से जुड़ी निजी जानकारी, लॉगइन डिटेल्स, KYC डॉक्यूमेंटस की फोटोकॉपी, डेबिट कार्ड की जानकारी, पिन नंबर, पासवर्ड या ओटीपी किसी भी अनजान व्यक्ति या एजेंसियों के साथ शेयर ना करें.”

ऐसा होने पर तुरंत बैंक से करें संपर्क 

RBI ने लोगों को अपनी सलाह में बताया, “साथ ही अपने अकाउंट से जुड़ी हुई कोई भी जानकारी आप किसी अनजान वेबसाइट या ऐप के जरिये शेयर ना करें. अगर कस्टमर के पास इस तरह की कोई रिक्वेस्ट आती हैं तो उन्हें तुरंत अपने बैंक की नजदीकी ब्रांच में संपर्क करना चाहिए.”

इस तरह से होतीं हैं ये जालसाजी 

RBI ने इन जालसाजों के काम करने के तरीके (modus operandi) को लेकर भी ग्राहकों को जानकारी दी है. RBI के मुताबिक, “इस तरह के फ़्रॉड के मामलों में कॉल, SMS और ईमेल्स के जरिए ग्राहकों से उनके अकाउंट से रिलेटेड जानकारी मांगी जाती है. ये लोग कई बार ग्राहकों से KYC डॉक्यूमेंट में अपडेट कराने के नाम पर अनजान ऐप इंस्टॉल करने के लिए भी कहते हैं. इसके लिए ग्राहकों को उनका अकाउंट फ़्रीज, ब्लॉक या बंद करने की भिन धमकी दी जाती है. एक बार जब ग्राहक अपनी जानकारी इन जालसाजों के साथ शेयर कर देते हैं तो ये जालसाज उनके अकाउंट से पैसे उड़ा देते हैं. 

RBI के मुताबिक, “लोगों को उनके अकाउंट से संबंधित जानकारी बैंक की शाखा में ही देनी चाहिए या फिर बैंक की वेबसाइट पर जाकर ही उसे अपडेट करना चाहिए. कभी-कभी बैंकों की वेबसाइट से मिलती-जुलती वेबसाइट के लिंक भी आपके साथ साझा किए जाते हैं. ऐसे में आपको बहुत ज्यादा सावधानी बरतने की जरुरत है.”

KYC के लिए नहीं मांगी जाती बैंक अकाउंट की निजी जानकारी 

RBI, बीमा रेगुलेटर IRDAI, मार्केट रेगुलेटर सेबी और देश जे सभी बैंक समय समय पर KYC डॉक्यूमेंट में अपडेट कराने को लेकर अपने ग्राहकों को एडवाइजरी देते रहते हैं. हालांकि इन एडवाइजरी में बैंक अकाउंट की निजी जानकारी जैसे पिन या पासवर्ड या कार्ड डिटेल्स कभी भी नहीं मांगी जाती हैं. अगर कोई भी अनजान व्यक्ति अपने आप को बैंक का प्रतिनिधि बताकर आपसे इस तरह की निजी जानकारी मांगता है तो आपको सचेत रहने की जरुरत है. आपको कभी भी ये जानकारी शेयर नहीं करनी चाहिए.

यह भी पढ़ें 

Kaam Ki Baat: लोन ले लिया है या फिर लेने वाले हैं, इन पांच तरीकों से खुद को हर तरह के झंझट से बचाएं

लोक जनशक्ति पार्टी के सांसद प्रिंस राज पर रेप का आरोप, कोर्ट के आदेश पर दिल्ली में दर्ज हुआ केस

Source link ABP Hindi