Paytm News: पेटीएम के यूजर्स अब एप पर ले सकते हैं Health ID बनाने की सुविधा, जानें काम की खबर

Paytm Health ID News: पेटीएम (Paytm) यूजर्स के लिए बड़ी खबर है. पेटीएम ने अपने यूजर्स (Paytm Users) को एक ऐसी सुविधा दी है जिसके जरिए वो अपने स्वास्थ्य (Health) से जुड़े अपडेट को एक यूनीक हेल्थ ID (Unique Health ID) में सेफ रख सकते हैं. पेटीएम ने एलान किया है कि इसने नेशनल हेल्थ अथॉरिटी हेल्थ आईडी (National Health Authority’s Health ID) के साथ इंटीग्रेट किया है जिसके जरिए यूजर्स अब पेटीएम पर अपनी यूनीक हेल्थ आईडी क्रिएट कर सकते हैं. 

क्या है पेटीएम की योजना-आपको कैसे फायदा मिलेगा
पेटीएम ने एलान किया है कि वो अपने प्लेटफॉर्म पर नेशनल हेल्थ अथॉरिटी की हेल्थ आई़डी जोड़ रहा है जिसके तहत उसके यूजर्स अपनी यूनीक हेल्थ आईडी पेटीएम पर क्रिएट कर सकेंगे. इससे उनको कई तरह की फैसिलिटी मिलेंगी जैसे कि यूजर्स अपनी टेस्ट की लैब रिपोर्ट्स देख सकेंगे. टेली कंसल्टेंट की बुकिंग करने में सक्षम हो सकेंगे और अपनी हेल्थ से जुड़ी तमाम जानकारियों को एक जगह अपनी हेल्थ आईडी में स्टोर कर सकेंगे और हेल्थ लॉकर में सुरक्षित रख सकेंगे. 

1 करोड़ लोगों की हेल्थ आईडी का लक्ष्य
पेटीएम ने जानकारी दी कि कंपनी का लक्ष्य है कि आने वाले 6 महीनों के अंदर 1 करोड़ भारतीयों की हेल्थ आईडी इसके प्लेटफॉर्म पर क्रिएट कराई जा सके. कंपनी ने जो जानकारी मुहैया कराई है उसके मुताबिक एंड्रॉएड और आईओएस दोनों ही तरह के यूजर्स की हेल्थ आईडी क्रिएट करवाने वाला सबसे बड़ा कंज्यूमर प्लेटफॉर्म Paytm बनेगा. इसके जरिए लोग फॉर्मेसी से दवा भी खरीद सकेंगे, लैब टेस्ट भी बुक कर सकेंगे और जरूरत पड़ने पर सारी मेडिकल रिपोर्ट का एक साथ एक्सेस कर पाएंगे. 

पर्सनल हेल्थ रिकॉर्ड से भी लिंक कर सकते हैं अपनी हेल्थ आईडी
पेटीएम के यूजर्स अपनी हेल्थ आईडी को अपनी पर्सनल हेल्थ रिकॉर्ड (PHR) से लिंक कर सकते हैं जो उनके सारे मेडिकल रिपोर्ट्स और हिस्ट्री को एक साथ एक्सेस करने की सर्विस देगा. इसके जरिए यूजर के स्वास्थ्य से जुड़ी एक-एक जानकारी पेटीएम से क्रिएट की हुई यूनीक हेल्थ आईडी पर आ जाएगी और यूजर्स को काफी आसानी हो जाएगी. 

क्या है सरकार की डिजिटल हेल्थ आईडी कार्ड योजना
हेल्थ आईडी कार्ड 2021 के माध्यम से सभी पेशेंट का डाटा डिजिटल स्टोर किया जाएगा. योजना के माध्यम से अब लोगों को अपने मेडिकल रिपोर्ट हर जगह ले जाने की जरूरत नहीं पड़ेगी क्योंकि उनकी मेडिकल रिपोर्ट इस आई डी में सेव होगी जिसे डॉक्टर एक्सेस कर पाएंगे. हेल्थ आईडी कार्ड के माध्यम से किसी भी प्रकार का मेडिकल डाटा कभी भी लोगों के पास से नहीं खोएगा और हेल्थ आईडी कार्ड के माध्यम से हर शख्स की मेडिकल हिस्ट्री तुरंत देखे जाने की सुविधा होगी जो काफी उपयोगी रहेगी. हेल्थ आईडी सरकार के डिजिटल हेल्थ मिशन को आगे बढ़ाने की प्रक्रिया में काफी काम आएगी और लोगों का स्वास्थ्य डेटा एक साथ इसमें सुरक्षित रह पाएगा. 

Source link ABP Hindi